पटना : बिहार के आसपास के राज्यों में टिड्डियों के बढ़े प्रकोप के बाद अब सूबे में भी कृषि विभाग अलर्ट पर आ गया है़ इसको लेकर बुधवार को कृषि मंत्री डाॅ प्रेम कुमार ने संबंधित अधिकारियों से बात कर सतर्क रहने व आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश दिये है. मंत्री ने राज्य के सीमावर्ती जिलों में पूरी निगरानी रखने के लिए जिला कृषि पदाधिकारी एवं पौधा संरक्षण के सहायक निदेशक को जिम्मेदारी दी. इसके अलावा सूबे के कृषि मंत्री ने टिड्डियों के आक्रमण की स्थिति को लेकर यूपी के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही से फोन पर बात भी की.

कृषि मंत्री से बात के बाद यूपी के कृषि विभाग की ओर से वहां के एक वरीय पदाधिकारी को बिहार के साथ सूचना साझा करने के लिए अधीकृत किया गया़ साथ यूपी सरकार की ओर से टिड्डियों की रोकथाम के लिए किये जा रहे कार्यों की जानकारी भी दी गयी. वहीं, बिहार की ओर से यूपी से कृषि संबंधी जानकारी साझा करने के लिए अपर निदेशक धनंजयपति त्रिपाठी को जिम्मेदारी दी गयी. गौरतलब है कि टिड्डियों से फसलों, पेड़-पौधों को काफी नुकसान पहुंचता है. टिड्डे अपने रास्ते में आने वाले हरे पेड़-पौधों, सब्जियों को खाकर उनका भयंकर नुकसान पहुंचाते हैं. विभाग की ओर से निर्देश दिया गया कि अगर पौधों पर टिड्डियों का असर आये तो तत्काल लैंबडासायहेलोथ्रीन पांच ईसी की तय मात्रा एक लीटर पानी में अथवा क्लोरोपायरीफॉस 20 ईसी की 2.5 से तीन ईसी की मात्रा के अलावा फिपेरोनिल पांच ईसी, डेल्टामेंथ्रीन 2.8 ईसी की एक से डेढ़ एमएल एक लीटर पानी में घोल बना कर छिड़काव किया जा सकता है.

0Shares

Leave a Reply